Saturday, 11 January 2014

कविता :-अमर होना चाहा

Sudha Raje wrote a new note: Sudha
Rajeअमर होना चाहा मन नेमानवीय आयु
सींमा परअंबर
की भ्रान्ति पालेअपनी ही कल्पना केविश्व
में कल्प...
Sudha Raje
अमर होना चाहा मन ने
मानवीय आयु सींमा पर
अंबर की भ्रान्ति पाले
अपनी ही कल्पना के
विश्व में कल्पित
सुखों का परिकल्पित
संसार बनाकर
सुख से रहना चाहा शरीर
ने
कल्पित
अपनी ही सोचो के
पार्श्व में सुख का वायुमंडल
रंग प्रकृति रचकर
अपनी ही परिकल्पना के
जीवित स्वर्ग में

अंबर

धरा

वातमंडल

स्वर्ग
कुछ भी नहीं था सत्य
सत्य था दुख
दुख से मुक्ति की छटपटाहट
लिये
दुख मुक्त होना चाहते मन
को
जकङता गया अंबर
धरती वायु और स्वर्ग
अंततः
स्वयं को हवाले कर दिया
दुख के
छोङ दी सुखेच्छा
अमरेच्छा
तब
लहलहा उठे करूणा के जंगल
और अमर दुख से सुख
ईर्ष्या करने लगे
GOOD
MORNING
शुभ प्रभात्
Feb
16

No comments:

Post a Comment