Saturday, 28 December 2013

"आप की झाङू" -प्रजानामचा by Sudha Raje

सफाईवाला ---सर कमरे दफतर में झाङू
लगा दें?
सर-----व्हाट!!!!!
खबरदार!!!!!!! आईन्दा कभी झाङू लिये
नजर आये ।
और ये कोने कोने हर रूम में इतने सारे
ब्रूम्स!!!!!!
हटाओ अभी हटाओ!!!
सर फिर दफतर को साफ कैसे करेंगे हम
लोग?
कपङे से करो काग़ज से करो पॉलिथिन से
करो या गंदा ही रहने दो हम सब
अपना अपना कूङा खुद ही बाहर डाल के
आयेंगे
मगर खबर दार जो कहीं किसी कमरे में
झाङू नजर आयी और ये नाम भी लिया ।
जी सर जी ।
समझ गया!!
क्या समझ गया??
यही कि आईन्दा कपङे से झाङू लगानी है
ईईईईई
फिर झाङू?
तततततो साब क्या बोलूँ?
कुछ भी बोल मगर ये जो कहा वह नहीं ।
जी सर जी
कल से आप जो कहेंगे वही होगा ।
आआआआआपपपपप??? जो कहेंगे मतलब??
सर जी आप मतलब आप!!
ओ मेरे चाचा!! मेरे दादा
आप जो कहेगे वह नहीं जो मैं
कहूँगा वही करना और आप आप
का तो नाम ही नहीं ।
जी सर जी
तुम जो कहोगे वही करेगे और वह
जो सफाई करने के काम आती है घास और
खजूर और नारियल वाली गट्ठरी वह
कहीं नही रखेगे
शाबास
जी सर जी
तुम कहो तो कल अपने आपके काम के लिये
कपङों की झाङुयें बना डालूँ?
ययययययाईईईईईऊऊ
गेटटटटटटट् आआआऊऊऊटट
जैसी आपकी मरजी
फिर मत कहना झाङू नहीं मारी!!! साब
:(:(:(:(
©®सुधा राजे

No comments:

Post a Comment