Wednesday, 25 December 2013

गीत

संसार है माया है भ्रम है लिख लिख के
बताया ना समझे ।
हम जान के भी अनजान बने
कितना समझाया ना समझे ।
जीवन है खिलौना साँसों का ।
साँसों की है डोरी और कहीं
चाभी से चलाता और कोई ।
यूँ नाच नचाया ना समझे ।
©® सुधा राज

No comments:

Post a Comment