Saturday, 28 December 2013

कविता: ग्रामवासिनी हम गँवार

सुधा राजे ।
**********
ग्रामवासिनी
हम गँवार देहातिन बाबू !! गाली है
शहर
खा गये सब कुछ
मेरे गाँव
की झोली खाली है
1-दूध पिये बिल्ली कुत्ते तोते फल खाते
माखन तुम
क्या जानो बिन रोटी के
रमदसिया मरने
वाली है
2-
सारी साग़ सब्ज़ियाँ महुये आम आँवले बेर
तलक
भर ले जाते आढ़त बाबू बस
हमरी रखवाली है
3-
बोबें ,छेतें ,छोलें ,रोपें,ईख पिसी तिल
धान उङद
मिल ,काँटे ,मंडी ,कोल्हू पे
गाङी की भी डाली है
4-
जो भी आबे खाता जाबे
हम जाबे तो दुत्कारे
बिही केर गुङ परमल बिक
गये
जोरू बिटिया काली है
भैया
जी कें गये थे इक दिन शहर
बिमारी विपदा में
बहिना ने
भी नाही चीन्हा भौजी
मतलब वाली है
6-धिल्ली नखलऊ दून के चक्कर काट काट
कें चिक्कर गये
"अव्वल की यो
डिगरी "ऊँची "बिन रिश्वत बेमाली है
7-
सुधा गाँव की गौरी नईँ
अब
ठेठों वाली कल्लो भयी
शहर गाँव
की कैसी यारी
मिक्सर
कहाँ कुदाली है
8-
बिजली आने का त्योहार
मनाते हफ्तों बाद यहाँ
राशन की लाईन
घोटाला करे पंच
की साली है
9-
ले जाते मजदूर बनाकर
बंबई
बेचें बच्चों को
हम गँवार गंदे किसान
की फूटी लोटा थाली
10-
कहाँ कौन सा देश और
सरकार हमें तो थाना है इज्जत जाये
कतल
हो चाहे पंचों की दल्लाली है 11- पाँच
साल पे भोट डालने
पकङ पकङ
ले जाबेंगे
दारू दे के बिलमाबेंगे
रैली जोर निकाली है
12-
पटबारी को पैसे नई गये पैमाईश में
फँसा दियौ गिरदाबल के नक्शे में अब
ग्राम समाजू ढाली है
13-
चकबंदी में नायब और
वकीलों ने ऐसा फाँसा
परके करधन बेची रोरो
अबके कान की बाली है
14-
बिटिया पढ़ गई इंटर कैसे शहर पढ़ाबें
जी काँपे
गाँव के बाहर भेजे पे
तो पीछे रोज मवाली है
15-
बेटे की उम्मीद में सासू ससुर तबीजें करते
रये
तीन छोकरी हो गयीं
तिस पे अब आया बंगाली है
16-
रोज रात कूँ हाङ तुङाके
कमली की अम्माँ रोबे
कच्ची पी के लठ्ट चलाबे खोटी, किस्मत
वाली है
17-
गोबर
सानी कुट्टी मट्ठा रोटी बाशन
चरखा भी
जोरू गोरू खेत रखाबे
हमरी बात निराली है
18-
सुधा भात पे 'चीज'
चढैगी
भैंस बिके चाहे
दो बीघे
कैसे हमरी धिया बिआहें चिंता नींद
उङाली है
19-
बी पी एल पे नाम लिखाबे
नकद माँग परधान करे
मनरेगा की मजदूरी भी
मेट की भेंट चढ़ाली है
20-
हस्पताल
की दवा डागधर
शहर बेचते चोरी से
दाई जनाबै बच्चा मर गयी बिंदू
की घरवाली है
21-
मच्छर, बाढ़, बुखार
चोर ,नट
ओझा पंडिते दर्रोगा
बची खुची बिगङी औलादें नाबालिग
धौँचाली है
22-
क्या होता गणतंत्र कायें
की बँटी जलेबी शाला में
जो केबें परधान वो होबे शासन देश
सवाली है
23-
मिल वालों ने अब तक लौं पेमेन्ट
दिया नईँ बोबें क्या । क्ऱॉप लोन
की किश्त बिके टिरक्टर ट्राली हैं।
24-
पुरखों की ऊसर ज़मीन पर
कितनों को रुज़ग़ार मिले। दादालाई
टुकङे टुकङे बँट गयी हर ख़ुशहाली है 25-
हमसे घृणा करें रिश्ते भी नही बताते
देहाती
लोकतंत्र किस पोखर डूबा "सुधा "गाँव
में
ठाली है
®©¶¶©®
Sudha Raje
तत्कालीन पता
सुधा राजे
एड
511/2-पीतांबराआशीष
फतेहनगर
शेरकोट
जिला बिजनौर
उप्र
246747

No comments:

Post a Comment