Thursday, 3 July 2014

सुधा राजे का लेख - किसान भी इंसान है।

यूरोप में एक टमाटर और लेट्यूस उगाने
वाला जल्द ही अरबपति बन जाता है
क्योंकि उसको उगाने से बेचने तक हर
स्तर की यांत्रिक सुविधा मुहैया है ।
भारत में बीस तरह
की सब्जियाँ उगाने वाला जनम भर
फटीचर गरीब और उपेक्षित किसान
काछी कोईरी!!!!!!!
जब कपङो का दाम चुपके से बढ़
जाता है और बजाज मोलभाव में
भी दुगुना मुनाफा लेता है तब कोई
हल्ला नहीं?
जब टीवी मोबाईल बाईक कार
दवाईयों घङियों सीमेंट रेत
चूना काँच प्लास्टिक सिगरेट
बीङी दारू पानमसाला क्रीम
पावडर साबुन शैंपू टायर ट्यूब
साईकिल रेडियो बैटरी लैंप बरतन
गहने जेवर तक के दाम बढ़ जाते हैं
किसी को कोई एतराज नहीं???
सब्जी?
अनाज
फल
मसाले
खाद्य तेल
और जूट पटसन कपास के दाम बढ़ जाते
हैं तो
कोहराम!!!!!!!!
क्यों?
क्योंकि इनके बिना जीवन मुश्किल
है??
तो ""किसान बागवान
काछी कोईरी ""
को हर चीज पर छूट दीजिये 'तीस
परसेंट '
और नहीं तो ""बाजार के मुकाबले "उसे
अपने सामान का दाम बढ़ाने दीजिये
न!!
सरकार क्या करेगी?
हल चलायेगी कि कुदाल
फावङा गेंती खुरपी दरांती पहसुल!!!
दूब चिखुरेगी या कतवार काँढ़ेगी?
कीङे मारेगी कि पानी धूप बरसात
हवा सरदी गरमी लू अगोरेगी??
जब किसान को
नमक
कपङा
दवाई
बच्चों की पढ़ाई
मकान किराया
बस रेल किराया
साबुन शैंपू ईँधन तेल
बिजली
वकील की फीस
डॉक्टर की फीस
दरोगा की चढौती
भिखारी बाम्हन नेगी का दान
दहेज का रेट
पटवारी मुंशी परधान का चढ़ावा
मिस्त्री दर्जी मोची नाई धुलाई
परेस मरम्मत फोटो ।
सब
का
सब
बेंवत काबू औखात से बाहर
लगेगा तो का करेगा??
जमीन बेच के बिल्डर को मकान
किराये पर चढ़ाकर कार
बंगला वाला साब बन ही जायेगा ।
मकान कमाकर देगा किराया ।
बचे खुचे किसान
कोईरी काछी सैनी माली बागवान

सब्जी
फल
अनाज
दाल
तेल
मसालों के दस परसेंट भी हर साल
दाम न बढ़ायें तो भूखे नंगे तर्ज से
दीवालिया होकर मर जायें?
आखिर आड़तबाबू ढुलाई नेगी खाद
बीज दवा मजूरी स्टोरेज औजार
मशीने सब मुफत नहीं न मिलता है ।
किसान को हेय समझते लोग कब समझेंगे
"?
उसका भी पेट है परिवार है समाज है
जरूरतें हैं!!
बताईये कि किसान ""फल सब्जी अनाज
बेचकर पैसे से क्या क्या खरीद
पायेगा------?--कपङा कल
जो सूती धोती पचास की थी आज पाँच
सौ की है!!!!! कल जो दवाई
चवन्नी की थी आज चार सौ की है, कल
जो बिजली मुफ्त थी आज चार
रुपया यूनिट है "कैरोसीन पेट्रोल डीजल
खाद कीटनाशक । लोहा । पीतल
सोना चांदी । खादी । रेशम चाय ।
कॉफी । कागज । गत्ता । किताब ।
दर्पण चूङी बिंदी सिंदूर आलता सब
का दाम बढ़ गया """""बाबू साब
लोगों की तनखा हर साल इंक्रीमेंट
होता है मजूरी बीस रुपया से
दो सौ रुपिया दिहाङी हो गयी ""साईकिल
पाँच सौ से चार हजार तक
हो गयी """""कैसे खरीदें??? डाक्टर साब
की फीस दो सौ से पाँच सौ रुपया ।
पैथोलॉजी की फीस दो हजार से दस
हजार!!! जचगी की फीस पाँच हजार से
तीस हजार!!! टैंट वाले की एक लाख बैंड
वाले की पच्चीस हजार!!!!
किसान का बच्चा सरकारी स्कूल
पढ़ेगा तो क्या बनेगा?? आई ए एस
तो केवल अंग्रेजी मीडियम वाले स्कूल
का ग्रेजुएट बनेगा जहाँ की फीस हजार
रुपया महीना और बस का किराय पाँच
सौ रुपिया महीना किताबें पाँच हजार
का बस्ता और महीने
की स्टेशनरी दो चार सौ । यूनिफॉर्म
हजार की """"!!!!दो बच्चे भी पढ़ायें
तो कैसे??
कहिये कि लोग बाग ""सिनेमा देखना कम
करें ""मैच देखना कम करें ""साल में चार
जोङी कपङे कम खरीदें और घर में पेस्ट
जरा सस्तावाला रखे "डियो और साबुन
भी सस्ता रखें और एसी की बजाय कूलर से
काम चलायें कार पुल करने लगें ग्रुप कार
चलायें ""बीयर सिगरेट
गुटखा खाना पीना बंद करें ""और
हाँ ओवन की अँगीठी जलायें मकान में
मार्बल न करे सीमेंट फ्लोर रहने दें और
चश्मा पर्स की रिंग शर्ट जींस
जरा सस्ती वाली खरीदें ""बैग की जगह
झोला बनवा लें "
और हाँ जूते सिर्फ दो जोङी ही रखें न
""वैसे सब्जियाँ खाने की बजाय चिप
खाईये अच्छी डिश है।

टेलर एक सस्ते कपङे की पैंट शर्ट सिलने के
तीन सौ से पाँच सौ रुपये लेता है ।
किसान सात आदमी का परिवार भी कैसे
ढँके?

फेशियल का रेट बढ़ गया है और खिज़ाब
की ""स्मार्ट और सुंदर लोग कब रोड
जाम कर रहे हैं?
लोग इतना मैसेज करते हैं बतियाते है!!!!!
पोस्ट कार्ड लिखना शुरू कीजिये न? हफ्ते
मों दो । सरकार
का भी फायदा ""लोगो के मोबाईल बिल
की भी बचत!!!! जिसे देखो हर बखत
कनपटी पे दुबकाये पकर पकर पकर
©®सुधा राजे

--
Sudha Raje
Address- 511/2, Peetambara Aasheesh
Fatehnagar
Sherkot-246747
Bijnor
U.P.
Email- sudha.raje7@gmail.com
Mobile- 9358874117

No comments:

Post a Comment