Thursday, 6 July 2017

(सुधा राजे) धरती माँ का ऋण ,कुछ तो हों उऋण *** आज का वृक्ष - करौंदा कर्मदा,

कृपया शेयर करें

*************(सुधा राजे)
धरती माँ का ऋण ,कुछ तो हों उऋण 
<>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>वर्षोत्सव मनायें ,चलो कुछ फलदार वृक्ष लगायें 
*************************
आज का वृक्ष _^_
करौंदा
कर्मदा, 
करौंदा कर्मदा और क्रेनबेरी पृथक हैं पहले यह समझ लें ।भारतीय करौंदा लाल गुलाबी हरा रानी रंग और काला तथा गहरा जामुनी तक होता है । आकार में छोटे बेर के बराबर होता है । बहुत खट्टा फल है । यह फल बहुउपयोगी है । अचार चटनी मुरब्बा सलाद जैम जैली साॅस सब्जी और सुखाकर पिट्ठी बनाने तथा चूर्ण बनाकर रखने पर अमचूर की भाँति प्रयोग करने हेतु बहुत ही उपयोगी है । तरह तरह की दालों साग सब्जियों तरकारियों और घुघरी ,कोंयीं ,छोले तथा भरवाँ अचार के मसालों के साथ मिलाने के भी बहुत काम का है ।गुड़ चीनी डालकर इसकी कलौंजी ,लौंजी ,खटमिट्टी मैथीदाना ,बनायी जाती है ।
करौंदे का जूस काले नमक के साथ पीने से तेजी से चरबी घटती जाती है । यह विषांतक है कैंसर रोधक तत्व इसमें है । करौंदे की पत्तियां पीसकर पिलाने से मिर्गी रोग ठीक हो जाता है ।गर्भवती स्त्री को प्रारंभ में जो उलटियां होती है तब करौंदा मुख स्वाद ठीक रखता है ।
एक तरह से बहुत शीघ्र पनपने वाला पौॆधा है नींबू की ही भाँति शीघ्र बढ़कर फलने लगता है ।बंगले की बाऊँड्री के लिये बढ़िया कवरिंग फैन्सिंग है । फूल सुगंधित होते हैं । मिर्च करौंदे का अचार बहुत स्वादिष्ट मिश्र अचार बनता है ।चाहें तो किसी भी फल के साथ फ्रूट सलाद चाट या अचार रूप में ले सकते हैं । पेड़ दो से दस फीट तक का हो जाता है । गमले में भी लगाया जा सकता है बस कटिंग समय समय पर करते रहें यह पुनः हरा भरा हो जाता है ।नम भूमि पर लगा दें छह माह की ही देख रेख में पनप जाता है।हमें तो अजवाईन वाली बेसन की बासी पूरी के साथ मिर्ची करौंदे का तला हुआ नमक हींग अजवाईन मिक्स पसंद है । यह हर मौसम में लग सकता है बरसात में बहुत शीघ्र बढ़ता है । तो चलो लगायें केवल स्वयं नहीं सबके लिये कहीं भी जहां भी जगह मिले , एक कर्त्तव्य करे पूरा ,पेड़ लगाये चाहे वन हो घर हो या हो घूरा _/\ _सादर 
©®सुधा राजे

No comments:

Post a Comment