Saturday, 6 September 2014

सुधा रसोई :- लौकी"

लौकी केवल सब्जी नहीं औषध भी है
"""1-
लौकी कद्दूकस करके आम कद्दूकस करें
बेसन में फेंटकर हरे मसालों की कतरन
मिला लें पकौङियाँ बनालें ""सॉस के
साथ बच्चे खायेगे ""
2-
पकौङियाँ बच जायें तो सब्जी बना लें
अथवा ""दही डालकर
रखे और खायें खिलायें फुलकी "
गरमी में लौकी वरदान है ।
बच्चे मुँह बिचकाते हैं ।
तो
रेसिपी बदल कर देखें ।
3-
लौकी के बारीक गोल स्लाईस
पर बेसन मसाला लगाकर तल लें
और
टौमैटो केचअप
या पोदीने की हरी चटनी के साथ
परोसें ।
याद रखे लौकी पर रोंयें
हो तभी तोङ लें या नरम
छोटी लौकी खरीदे जो सफेद न
हो छिलका मुलायम हो बीज में
कङक छिलके न बने हो

4-
तब तक लौकी का रायता भी बनवा लें
""बारीक लच्छे हल्की आँच पर जीरे घी से
छौंक दें और अधपका होने पर दही में
मिला दें ""सूखा जीरा तवे पर भूनकर
पीस लें और दही में मिला दें नमक
दोनों प्रकार के काला सफेद डालें
""प्याज पसंद हे तो बारीक कतरी प्याज
हरी मिरची धनिया पोदीना डाले और
लौकी का रायता चावल के साथ खायें
खिलायें """पौष्टिक निरापद और
शीतलकारी "
5-
दही चावल निषेध नहीं है
""सिवा शीतलहर के दिनों के
"""बल्कि दही में उङद और दूध में लहसुन
निषेध है """""किंतु जब उङद के बङे बनते हैं
तब ""उत्तम है ""और लहसुन घी में तलकर
खाने से बल बढ़ता है ।
5-
दही खट्टा न हो जाये इसलिये केवल पाँच
घंटे का जमा हो या कपङछन करके दूध
डालकर फिर मिला लें
हो सके तो मिट्टी के बरतन में दही जमायें ।
7-
हाँ लौकी के पराँठे और लौकी वाली चने
की दाल ''भी बना सकती है
8-
लौकी को कद्दूकस करें गाढ़े किये गये
उबलते दूध में पकायें ।
चीनी इलायची कतरे हुये बारीक मेवे
बादाम डालें और ठंडा करे
""लौकी की लौच ""व्रत उपवास में
भी पौष्टिक आहार है ।
9-
लौकी को कद्दूकस करके देशी घी से छौंक
दे ""चिरौंजी और खसखस डालकर """जब
पक जाये तो "मावा 'खोआ डालें और
गाढ़ा होने पर
पिसी हुयी चीनी या बूरा डालकर
घी लगी थाली में फैला दें ""काटकर
बरफी परोसे ""चाहे तो चाशनी बना कर
चार तार की फिर मावा और
लौकी की भुनी हुयी पिट्ठी डालकर
गाढ़ा करे घी लगी थाली में फैलाकर कतरे
हुये नारियल और मेवे चिपका कर चोकोर
टुकङे काटकर बरफी रखे ठंडी होने पर
खायें """"यह सबसे स्वादिष्ट बरफियों में
से एक है
10-
लौकी कद्दूकस करके पानी निचोङ लें
जिससे या तो आटा गूँथ लें या दाल में डाल
लें ।।अब लौकी के लच्छों को नमक डालकर
बेसन में कङक गूँथें और हाथ पर तेल लगाकर
गोले बना ले ""पानी उबालकर कुकर में ये
गोले गरम पानी में छोङ दें दो सीटी ले लें
।उताकर ठंडा करके गोले आलू की तरह
काट लें कटे हुये टुकङे हलके से तेल में भूनकर
निकाल लें """""अब आलू की तरह
मसाला पेस्ट दही डालकर भून ले ।।।
लौकी के गट्टे डालें और दो मिनट चलायें
फिर पानी डालकर एक सीटी लें
"""ग्रेवी गाढ़ी होने पर उतार कर
'''बारीक कतरी धनिया और
हल्का सा पिसा गरम मसाला बुरक दें ''11-

हर घर में एक गृहिणी है और अकसर
ही भारतीय गृहिणी बहुत तरीकों से
पकातीं हैं """बस
उनको पब्लिसिटी नहीं करनी आती ""
लौकी मुलायम बतिया ही तोङ लें बारीक कतरें और छलनी में रखकर भाप दें,
उतार कर अंकुरित मूँग और अंकुरित चने मिलायें,
बारीक कतरे टमाटर प्याज चुकंदर के जूलियन लच्छे कद्दूकस करके मिला लें और
हरी मिर्च धनिया और एक चम्मच मनपसंद तेल या घी फिर हलका नमक और कालीमिर्च
मिला लें बढ़िया सलाद तैयार हो जायेगा
11-


लौकी को तुलसी के पत्तों के साथ
उबालकर अर्क पीने से बंद धमनियाँ खुल जाती हैं
12-
लौकी की भुजिया बनाते समय अन्य
हरी सब्जियाँ भी मिक्स करके ""मिक्स
बेज बना सकते हैं
©®सुधा राजे


No comments:

Post a Comment