Thursday, 18 December 2014

सुधा राजे की कविता :- जेहन पे ये ताले

दिल भला दर्द सँभाले तो सँभाले कैसे,
जल गये बाग कोई फूल निकाले कैसे
चीख दहशत से घुटी है कि "सुधा " नफरत
से '
पङ गये सोच पे ज़ेहन पे ये ताले कैसे
©®सुधा राजे।


No comments:

Post a Comment